देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने दो साल पहले जियो 4जी सेवा लॉन्च कर और नये-नये लुभाने का  प्लान पेश कर देश की बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन गयी है.

अभी कंपनी भारत में 5जी सर्विस लांच करने की तैयारियों में जोड़  जुटी है. RIL 5जी स्पेक्ट्रम मिलने के छह महीने के भीतर भारत में 5जी सर्विस लॉन्च कर देगी.यह उम्मीद की जानी चाहिए कि साल 2020 तक 5जी सेवा सभी  ग्राहकों तक पहुंच जायेगी ।

जियो के एक अधिकारी के हवाले से लिखा है, जियो के पास 5G रेडी LITE नेटवर्क है और स्पेक्ट्रम मिलने के पांच से छह महीने के अंदर यह टेक्नोलॉजी आधारित सर्विस लॉन्च करने में आत्मनिर्भर हैं.अभी कंपनी आक्रामक तरीके से ऑप्टिक फाइबर लगा रही है, जो 5जी नेटवर्क की रीढ़ की हड्डी के तौर पर काम किया जायेगा ।

2019 वर्ष के अंत तक 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी होगी.

सरकार ने भारत में 5जी ट्रायल के लिए एरिक्सन, सिस्को, सैमसंग और नोकिया के साथ पार्टनरशिप करने की बात कही है, जबकि चीनी कंपनियां हुवावे और जेडटीई को इस प्रक्रिया से बाहर रखा गया है.

टेलीकॉम मिनिस्ट्री के अधिकारियों के अनुसार, सरकार 5जी से जुड़ी गतिविधियों के लिए 500 करोड़ रुपये का बजट निकालने पर काम कर रही है. यह कार्य मुख्य रूप से रिसर्च और प्रोडक्ट डेवलपमेंट का होगा.5जी टेक्नोलॉजी के तहत सरकार का शहरी क्षेत्रों में 10,000 मेगाबाइट प्रति सेकेंड और ग्रामीण क्षेत्रों में 1000 मेगाबाइट प्रति सेकेंड की स्पीड उपलब्ध कराने का लक्ष्य है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here